12 दिसम्बर: सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रत्येक वर्ष 12 दिसम्बर को ‘सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज दिवस’ (International Universal Health Coverage Day) के रूप में मनाया जाता है. यह दिवस सारे विश्व में प्रत्येक व्यक्ति को सस्ती, गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करने के लिए सभी देशों को बुलाने की संयुक्त राष्ट्र की सर्वसम्मत संकल्प के उद्देश्य से मनाया जाता है.

‘सार्वभौमिक कवरेज’ विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के 1948 के मज़बूत संविधान पर आधारित है, जो यह उद्घोषणा करता है, कि स्वास्थ्य मनुष्य का आधारभूत अधिकार हैं तथा यह सभी को स्वास्थ्य के उच्चतम स्तर की प्राप्ति सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

इस वर्ष यानी 2019 के ‘सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज दिवस’ का विषय (थीम) ‘कीप द प्रोमिस’ (Keep the Promise) है.

11 दिसम्बर: अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रतिवर्ष 11 दिसम्बर को अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस (International Mountain Day) के रूप में मनाया जाता है. इसका उद्देश्य पर्वत के संरक्षण के लिए प्रेरित करना तथा पर्वतों के महत्व को बताना है.

इस दिवस की शुरुआत संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 2003 में प्रस्ताव पारित करके की थी. इस दिवस के लिए संयुक्त राष्ट्र खाद्य व कृषि संगठन द्वारा समन्वय किया जाता है.

इस वर्ष यानी 2019 में अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस का विषय (थीम) ‘Mountains Matter for Youth’ है.

9 दिसम्बर: भ्रष्टाचार निरोधक दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रत्येक वर्ष 9 दिसम्बर को भ्रष्टाचार निरोधक दिवस (International Anti-corruption Day) के रूप में मनाया जाता है. इसका उद्देश्य भ्रष्टाचार एवं इसके उन्मूलन हेतु कारगर उपायों के प्रति जागरूकता फैलाना है.

इस वर्ष यानी 2019 के अंतर्राष्ट्रीय भ्रष्टाचार विरोधी दिवस का विषय (थीम) ‘यूनाइटेड अगेंस्ट करप्शन’ (United against corruption) है.

31 अक्टूबर, 2003 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने इसे एक दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की थी. संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि प्रति वर्ष भ्रष्टाचार के जरिए खरबों डॉलर की चोरी होती है अथवा यह राशि रिश्वत के रूप में दी जाती है. यह राशि नियंत्रण जीडीपी के पांच प्रतिशत से अधिक है.

8 दिसम्बर: भारतीय नौसेना का पनडुब्‍बी दिवस

प्रत्येक वर्ष के 8 दिसम्बर को भारतीय नौसेना पनडुब्‍बी दिवस (Indian Navy Submarine Day) मानती है. यह दिन 1967 में आज ही के दिन देश की पहली पनडुब्‍बी आईएनएस कावेरी को भारतीय नौसेना में शामिल किये जाने की स्‍मृति में मनाया जाता है.

29 साल की सेवा के बाद यह पनडुब्‍बी 31 मई 1996 को प्रचलन से हटा ली गयी थी. आईएनएस कावेरी रूस से खरीदी गयी पनडुब्‍बी थी.

7 दिसम्बर: सशस्त्र सेना झंडा दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रत्येक वर्ष 7 दिसम्बर को सशस्त्र सेना झंडा दिवस (Armed Forces Flag Day) मनाया जाता है. झंडा दिवस का उद्देश्य देश वासियों द्वारा सेना के प्रति सम्मान प्रकट करना है. इस दिन सशस्‍त्र बल कर्मियों के कल्‍याण के लिए लोगों से धन जुटाया जाता है. झंडा दिवस के दिन जुटाए गए धन का उपयोग सेवारत सैन्‍य कर्मियों और पूर्व सैनिकों के कल्‍याण के लिए किया जाता है.

भारत सरकार ने 1949 में सशस्त्र सेना झंडा दिवस मनाने का निर्णय लिया था. इस दिन झंडे की खरीद से इकट्ठा हुए धन को शहीद सैनिकों के आश्रितों के कल्याण में खर्च किया जाता है.

7 दिसंबर: अन्तर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रत्येक वर्ष 7 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस (International Civil Aviation Day) के रूप में मनाया जाता है. इस दिवस का उद्देश्य राज्यों के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए अन्तर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन के महत्व के बारे में दुनिया भर में जागरूकता पैदा करने में मदद करना है.

इस वर्ष यानी 2019 में नागरिक विमानन दिवस का विषय (थीम) ’75 इयर्स ओद कनेक्टिंग द वर्ल्ड’ (75 years of connecting the world) है.

ICAO (The International Civil Aviation Organization) ने 1994 में इस दिवस को मनाने की पहल की थी. संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 1996 में, 7 दिसंबर को संयुक्त राष्ट्र प्रणाली में अन्तर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन दिवस के रूप में आधिकारिक तौर पर मान्यता दी.

विमानन से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

  • दुनिया की सबसे पुरानी एयरलाइन KLM (Koninklijke Luchtvaart Maatschappij) है. इसकी स्थापना 1919 में हुई थी और इसकी पहली उड़ान एम्स्टर्डम और लंदन के बीच 17 मई, 1920 को हुई थी.
  • भारत की सबसे पुरानी एयरलाइन ‘टाटा एयरलाइंस’ है जिसे 1932 में जेआरडी टाटा द्वारा स्थापित किया गया था. 1946 में यह एयर इंडिया (Air India) बन गई.
  • एयरलाइन की उड़ान के दौरान पायलट और सह-पायलट एक ही भोजन नहीं करते हैं क्योंकि अगर एक भोजन विषाक्तता से ग्रस्त है, तो दूसरा विमान को उड़ा सकता है.

6 दिसंबर: महापरिनिर्वाण दिवस, भारत रत्न डॉ भीमराव अम्बेडकर की 64वीं पुण्यतिथि

6 दिसम्बर 2019 को भारतीय संविधान के निर्माता और भारत रत्न डॉ भीमराव अम्बेडकर की 64वीं पुण्यतिथि है. आज के ही दिन वर्ष 1956 में डॉ अम्बेडकर का निधन हुआ था.

उनकी पुण्यतिथि को प्रतिवर्ष ‘महापरिनिर्वाण दिवस’ के रुप में मनाया जाता है और बाबा साहब को श्रद्धांजलि दी जाती है. 1990 में बाबा साहेब आम्‍बेडकर को मरणोपरांत ‘भारत रत्न’ सेसम्मानित किया गया था.

डॉक्टर आम्‍बेडकर न्यायवादी, अर्थशास्त्री, राजनेता और समाज सुधारक थे. उन्होंने दलितों, महिलाओं और श्रमिकों के प्रति सामाजिक भेदभाव के खिलाफ अभियान चलाया. भारत के स्वतंत्र होने के बाद नई सरकार में वह कानून एवं न्याय मंत्री बनाये गये. उन्हें संविधान मसौदा समिति का अध्यक्ष भी नियुक्त किया गया.

5 दिसंबर: विश्व मृदा दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रत्येक वर्ष 5 दिसम्बर को विश्व मृदा दिवस (World Soil Day) मनाया जाता है. इस दिवस को मनाने का उद्देश्य किसानों और आम लोगों को मिट्टी की महत्ता के बारे में जागरूक करना है. उल्लेखनीय हैं कि हमारे भोजन का 95 प्रतिशत भाग मृदा से ही आता है.

संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO) द्वारा ने प्रति वर्ष 5 दिसंबर को ‘विश्व मिट्टी दिवस’ के रूप में मनाने का फैसला 20 दिसंबर 2013 को किया था. संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वर्ष 2015 को ‘अन्तर्राष्ट्रीय मृदा वर्ष’ के रूप में मनाने की घोषणा की थी.

इस वर्ष यानी 2019 के विश्व मृदा दिवस का मुख्य विषय (Theme) ‘Stop soil erosion, Save our future’ (बंद करो मृदा क्षरण, सहेजें हमारा भविष्य) है.

थाइलैंड के राजा भूमिबोल अदुल्यादेज के जन्मदिन पर मनाया जाता है

5 दिसंबर को थाइलैंड के राजा भूमिबोल अदुल्यादेज (Bhumibol Adulyadej) के जन्मदिन को विश्व मृदा दिवस के रूप में मनाया जाता है. भूमिबोल 70 सालों तक थाइलैंड थे. इस दौरान वह अपने क्षेत्र के हर गरीब से लेकर हर किसान की जिंदगी को सुझारने और खेती को नए आयाम देने के लिए 4 हजार प्रॉजेक्ट्स की शुरुआत की थी. इन सभी योजनाओं का मुख्य केंद्र मिट्टी ही थी. उन्होंने मिट्टी की समस्या पर ‘Sufficiency Economy Philosphy’ नाम की किताब भी लिखी थी.

5 दिसंबर: अन्तर्राष्ट्रीय स्वयंसेवक दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रत्येक वर्ष 5 दिसंबर को अन्तर्राष्ट्रीय स्वयंसेवक दिवस (International Volunteer Day) मनाया जाता है. यह दिवस स्थानीय, राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय सभी स्तरों पर परिवर्तन करने में लोगों की भागीदारी के सम्मान के रूप में मनाया जाता है. इस दिवस को मनाने का उद्देश्य सामुदायिक स्तर पर स्वयंसेवकों की बढ़ती भागीदारी को रेखांकित करना है. ऐसे में दुनिया के सभी देशों को स्वयंसेवकों के योगदान के बारे में याद दिलाया जाता है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा में 5 दिसंबर को अन्तर्राष्ट्रीय स्वयंसेवक दिवस के रूप में मनाये जाने का फैसला 17 दिसंबर 1985 को किया था.

इस वर्ष यानी 2019 के ‘अन्तर्राष्ट्रीय स्वयंसेवक दिवस’ का विषय (थीम) ‘वालंटियर फॉर एन इंक्लूसिव फ्यूचर’ (Volunteer for an inclusive future) है.

4 दिसंबर: भारतीय नौसेना दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रत्येक वर्ष 4 दिसंबर को भारतीय नौसेना दिवस (Indian Navy Day) के रूप में मनाया जाता है. इस दिवस के मौके पर देश अपने जाबाजों को याद किया जाता है.

भारत-पाकिस्तान के बीच 1971 में हुए युद्ध में भारत की विजय का जश्न मनाने के लिए यह दिवस मनाया जाता है. पाकिस्तानी सेना ने 3 दिसंबर को हमारे हवाई क्षेत्र और सीमावर्ती क्षेत्र में हमला किया था. इस हमले ने 1971 के युद्ध की शुरुआत की थी. पाकिस्तान को मुह तोड़ जवाब देने के लिए ‘ऑपरेशन ट्राइडेंट’ चलाया गया था.

3 दिसंबर: अन्तर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रत्येक वर्ष 3 दिसंबर को अन्तर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस (International Day of Persons With Disabilities) के रूप में मनाया जाता है. इस दिवस को मनाने का उद्देश्‍य दिव्‍यांगों के हितों की रक्षा करना और समाज में हर वर्ग के दिव्‍यांगों की बेहतरी के लिए जागरूकता पैदा करना है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 1992 के बाद 3 दिसंबर को अन्तर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस मनाने का निर्णय लिया था.

इस वर्ष यानी 2019 के ‘अन्तर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस’ के विषय ‘विकास एजेंडा 2030 से सम्बंधित कार्यवाही में दिव्‍यांगजनों की सहभागिता और उनके नेतृत्‍व को बढ़ावा देना’ है.

उपराष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने अंतरराष्‍ट्रीय दिव्‍यांगजन दिवस के अवसर पर उनके सशक्‍तिकरण के लिए कार्य करने वाले संगठनों और उल्‍लेखनीय योगदान करने वाले 65 दिव्‍यांगजनों को राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार प्रदान किये.

सुगम्य भारत अभियान
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिसंबर 2015 में सुगम्य भारत अभियान की शुरूआत की थी. इस अभियान का उद्देश्य दिव्यांग जनों के लिए सार्वभौमिक पहुंच सुनिश्चित करना है. दिव्यांगों के लिए सुगम और बाधामुक्त वातावरण तैयार करने के अलावा सार्वजनिक परिवहन और भवनों को उनके अनुकूल बनाने पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है.

दिव्यांग से तात्पर्य
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिसम्बर 2015 में विकलांगों को दिव्यांग कहने की अपील की थी. जो विशेष रूप से सक्षम लोगों की विशेष क्षमताओं की ओर इशारा करता है साथ ही समाज के हर वर्ग से अपील करता है कि वो अपने नज़रिए को सकारात्मक की ओर ले जाएं.

3 दिसम्बर 2019: भोपाल गैस त्रासदी की 35वीं बरसी

मध्य प्रदेश में ‘भोपाल गैस त्रासदी’ की 35वीं बरसी पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये गये. यह विश्व की सबसे बड़ी औद्योगिक दुर्घटनाओं में से एक है.

1984 में 2 और 3 दिसम्बर की मध्य रात्रि को यूनियन कार्बाइड कारखाने में ‘मिथाइल आइसो-साइनेट’ गैस के रिसने से बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो गयी, जबकि लाखों लोग अभी भी प्रभावित हैं.