Posts



62वां ग्रेमी अवॉर्ड की घोषणा: व्हेन वी ऑल फॉल अस्लीप को एल्बम ऑफ़ द इयर का पुरस्कार

62वां ग्रैमी पुरस्कार 2020 समारोह का आयोजन 26 जनवरी को लॉस एंजिल्स के स्टेपल्स सेंटर में आयोजित किया गया. इस समारोह को गायक-गीतकार एलिसिया कीज़ ने होस्ट किया था.

62वां ग्रैमी पुरस्कार के मुख्य विजेताओं की सूची

  1. एल्बम ऑफ द ईयर: When We All Fall Asleep, Where Do We Go? (by Billie Eilish)
  2. सॉंग ऑफ द ईयर: Bad Guy
  3. रिकॉर्ड ऑफ द ईयर: Bad Guy
  4. सर्वश्रेष्ठ नए कलाकार: Billie Eilish

ग्रैमी पुरस्कार: एक दृष्टि

  • ग्रैमी अवार्ड (मूल रूप से ग्रामोफोन पुरस्कार), ‘द रेकॉर्डिंग अकादमी’ द्वारा दिया जाता है. यह पुरस्कार मुख्य रूप से अंग्रेजी (भाषा) संगीत उद्योग में उत्कृष्ट उपलब्धियों को पहचानने के लिए दिया जाता है.
  • प्रथम ग्रेमी अवार्ड समारोह 4 मई, 1959 को बेवर्ली हिल्स कैलिफोर्निया में बेवर्ली हिल्टन होटल और न्यूयॉर्क शहर में पार्क शेरेटन होटल आयोजित किया गया था.

‘राष्ट्रीय लता मंगेशकर सम्मान’ की घोषणा, सुमन कल्याणपुर और कुलदीप सिंह को दिया जायेगा

संगीत के क्षेत्र में दिया जाने वाला ‘राष्ट्रीय लता मंगेशकर सम्मान’ की घोषणा हाल ही में की गयी है. वर्ष 2017 के लिए यह सम्मान पार्श्व गायिका सुमन कल्याणपुर को और वर्ष 2018 के लिए विख्यात संगीत निर्देशक कुलदीप सिंह को दिया जाएगा.

मुम्बई में हुई चयन समिति की बैठक में सुमन कल्याणपुर और कुलदीप सिंह को इस सम्मान के लिए चयन किया गया. बैठक में वरिष्ठ पार्श्व गायक सुरेश वाडेकर, प्रख्यात फिल्म पत्रकार विनोद तिवारी और फिल्म पत्रकार सुमंत मिश्र शामिल हुए.

राष्ट्रीय लता मंगेशकर सम्मान: एक दृष्टि

यह सम्मान मध्यप्रदेश सरकार द्वारा संगीत निर्देशन और गायन के क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए एक वर्ष के अंतराल पर दिया जाता है. सम्मान के अंतर्गत 2 लाख रुपये की राशि, सम्मान पट्टिका तथा शाल-श्रीफल भेंट किया जाएगा.

प्रसिद्ध ओडिया फिल्मकार मनमोहन महापात्रा का निधन

ओडिशा के प्रसिद्ध फिल्मकार मनमोहन महापात्रा का 14 जनवरी को 69 साल की उम्र में निधन हो गया. 1970 से 80 के शुरुआती दशक में उन्होंने सिनेमा को एक नई पहचान दी थी. उन्हें ‘न्यू वेव ओडिया सिनेमा के जनक’ के रूप में जाना जाता है.

मनमोहन महापात्रा ओडिशा के एकमात्र ऐसे शख्स हैं, जिन्होंने लगातार राष्ट्रीय पुरस्कार जीता है. उन्होंने लगातार दो बार राष्ट्रीय पुरस्कार जीता था. ओडिशा की रिज़नल फ़िल्म के लिए बेस्ट फीचर कैटेगरी में मनमोहन ने कुल आठ बार राष्ट्रीय पुरस्कार जीता.

महापात्रा ने पहली ओडिया फ़िल्म ‘सीता राती’ बनाई थी, जिसे इंटरनेशल फ़िल्म फेस्टिवल 1982 में दिखाया गया था. उन्हें निशिधा स्वप्ना, माझी पच्चा, नीरब झाड़ा, अग्नि बेना, क्लांता अपरान्हा, अन्धा दिगंता, किचि स्मृति किचि अनुभूति और भीना समया के लिए नेशनल अवॉर्ड मिला. उन्होंने रिज़नल फ़िल्मों को अतंरराष्ट्रीय स्तर तक पहुंचाया. उनकी कई फ़िल्मों को विदेशों में भी दिखाया गया.

77वें गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स 2020 की घोषणा, सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार ‘1917’ को दिया गया

अमेरिका के कैलिफोर्निया (लॉस एंजिलिस) में बेवर्ली हिल्टन होटल में 6 जनवरी को 77वें वार्षिक गोल्डन ग्लोब अवार्ड्स की घोषणा की गई. ये वार्षिक पुरस्कार मोशन पिक्चर्स और टेलीविजन में वर्ष 2020 के लिए है.

गोल्डन ग्लोब पुरस्कार 2020 के मुख्य विजेताओं की सूची

बेस्ट मोशन पिक्चर (ड्रामा) – 1917
बेस्ट एक्ट्रेस (ड्रामा) – रेनी ज़ेल्वेगर (जूडी)
बेस्ट एक्टर (ड्रामा) – जॉकिन फोनिक्स (जोकर)
बेस्ट फिल्म (म्यूजिकल/कॉमेडी) – वन्स अपॉन ए टाइम इन हॉलीवुड
बेस्ट एक्ट्रेस (म्यूजिकल/कॉमेडी) – ऑक्वाफीना (द फेयरवेल)
बेस्ट एक्टर (म्यूजिकल/कॉमेडी) – टेरॉन एगर्टन (रॉकेटमैन)
बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर – ब्रैड पिट (वन्स अपॉन ए टाइम इन हॉलीवुड)
बेस्ट स्कोर (फिल्म) – जोकर
बेस्ट लिमिटेड सीरीज़/टीवी फिल्म – चेरनोबिल
बेस्ट एक्ट्रेस (लिमिटेड सीरीज़/टीवी फिल्म) – मिशेल विलियम्स (फ़ॉस)
बेस्ट डायरेक्टर (फिल्म) – सैम मेंडेस (1917)
बेस्ट एक्ट्रेस (टीवी सीरीज़-ड्रामा) – ओलिविया कोलमैन (द क्राउन)
बेस्ट एक्टर (टीवी सीरीज़-म्यूजिकल/कॉमेडी) – रैमी युसफ (रैमी)
बेस्ट एक्टर (टीवी सीरीज) – ब्रियान कॉक्स (सक्सेशन)
बेस्ट एक्टर (लिमिटेड सीरीज़/टीवी फिल्म) – रसेल क्रो (द लोउडेस्ट वॉयस)

गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड: एक दृष्टि

  • गोल्डन ग्लोब (Golden Globe) पुरस्कार को ऑस्कर के बाद फिल्म के क्षेत्र का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है.
  • प्रत्येक वर्ष हॉलीवुड फॉरेन प्रेस एसोसिएशन (HFPA) मनोरंजन जगत में विशेष उपलब्धियों के लिए देशी-विदेशी कलाकारों, फिल्मों को गोल्डेन ग्लोब पुरस्कार से सम्मानित करता है.
  • पहला गोल्डन ग्लोब पुरस्कार जनवरी 1944 को लॉस एंजिल्स में आयोजित हुआ था.
  • हर वर्ष जनवरी में दिए जाने वाले इस अवॉर्ड को 90 अन्तर्राष्ट्रीय पत्रकारों के मतों (वोट्स) के आधार पर दिया जाता है.

फिल्म ‘द लास्ट कलर’ को ऑस्कर अवॉर्ड्स की फीचर फिल्म्स की लिस्ट में शामिल किया गया

फिल्म ‘द लास्ट कलर’ को ऑस्कर अवॉर्ड्स के फीचर फिल्म्स की लिस्ट में शामिल किया गया है. ऑस्कर एकेडमी ने 2019 की 344 बेस्ट पिक्चर्स में इस फिल्म को शामिल किया है. इस लिस्ट का हिस्सा होने लायक बनने के लिए फिल्मों को लॉस एंजेलिस के कमर्शल मोशन पिक्चर थिएटर में 31 दिसंबर तक रिलीज होना होता है और कम से कम 7 दिनों तक चलना होता है.

फिल्म ‘द लास्ट कलर’ को यूएसए के 30वें पाम स्प्रिंग्स इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में 4 जनवरी 2019 को रिलीज किया गया था. यह फिल्म भारत में अभी तक रिलीज नहीं हुआ है. मुंबई फिल्म फेस्टिवल 2019 में इसकी स्क्रीनिंग रखी गई थी.

फिल्म ‘द लास्ट कलर’ की कहानी वृंदावन और वाराणसी में रहने वाली विधवा औरतों की जिंदगी पर आधारित है. इस फिल्म के निर्देशक विकास खन्ना हैं. यह उनके द्वारा निर्देशित पहली फिल्म है. नीना गुप्ता ने इस फिल्म में मुख्य भूमिका निभाई है.

फिल्‍म अभिनेता अमिताभ बच्‍चन को 2018 का दादासाहेब फाल्‍के पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया

फिल्‍म अभिनेता अमिताभ बच्‍चन को फिल्‍म उद्योग में उनके योगदान के लिए 29 दिसम्बर को दादासाहेब फाल्‍के पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया. राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में उन्हें इस सम्मान से सम्मानित किया. उन्हें वर्ष 2018 का दादा साहब फाल्के सम्मान दिया गया है.

अमिताभ बच्‍चन

अमिताभ बच्‍चन ने फिल्‍मों में अपने करियर की शुरुआत 1969 में ‘वॉइस नैरेटर’ के रूप में की थी. उन्‍होंने मृणाल सेन की फिल्‍म ‘भुवन शोम’ में अपनी आवाज दी थी. उन्होंने अभिनेता के रूप में पहला फिल्‍म ख्वाज़ा अहमद अब्बास के निर्देशन में बनी फिल्म ‘सात हिन्दुस्तानी’ से किया था.

अमिताभ बच्‍चन को 2015 में देश का दूसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से भी सम्मनित किया गया था. उन्हें फिल्म अग्निपथ (1990), ब्लैक (2005), पा (2009) और पीकू (2015) के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. साल 2007 में अमिताभ बच्चन को फ्रांस की सरकार ने अपने देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया था.

दादा साहब फाल्‍के पुरस्‍कार: एक दृष्टि

  1. दादा साहब फाल्के पुरस्कार भारत सरकार की ओर से दिया जाने वाला एक वार्षिक पुरस्कार है.
  2. यह पुरस्‍कार भारतीय सिनेमा के विकास में उत्‍कृष्‍ट योगदान के लिए प्रदान किया जाता है.
  3. यह पुरस्कार भारतीय सिनेमा के जनक धुंदीराज गोविंद फाल्‍के (दादा साहब फाल्के) के नाम पर दिया जाता है.
  4. इस पुरस्कार का प्रारम्भ दादा साहब फाल्के के जन्म शताब्दि-वर्ष 1969 में हुआ था.
  5. पहली बार यह सम्मान 1969 में 17वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार समारोह में अभिनेत्री देविका रानी को प्रदान किया गया था.
  6. वर्ष 2017 के लिए यह पुरस्‍कार 65वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार समारोह में विनोद खन्ना को दिया गया था.
  7. इस पुरस्कार में 10 लाख रुपये और स्वर्ण कमल दिये जाते हैं.

66वां राष्‍ट्रीय फिल्‍म पुरस्‍कार: गुजराती फिल्‍म हिलारो को सर्वश्रेष्‍ठ फीचर फिल्‍म का पुरस्‍कार दिया गया

66वें राष्‍ट्रीय फिल्‍म पुरस्‍कार (66th National Film Awards) 23 दिसम्बर को प्रदान किये गये. ये पुरस्कार उपराष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने नई दिल्‍ली में प्रदान किये.

मुख्य पुरस्कारों की सूची

सर्वश्रेष्‍ठ फीचर फिल्‍म: गुजराती फिल्‍म ‘हिलारो’
सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेता: आयुष्‍मान खुराना (फिल्‍म ‘अंधाधुन’) और विक्‍की कौशल (फिल्‍म ‘उरी : द सर्जिकल स्‍ट्राइक’)
सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेत्री: कीर्ति सुरेश (तेलुगु फिल्‍म ‘महानटी’)
सर्वश्रेष्‍ठ निर्देशक: आदित्‍य धर (फिल्‍म ‘उरी : द सर्जिकल स्‍ट्राइक’)
सर्वश्रेष्‍ठ हिंदी फिल्‍म: अंधाधुन
सर्वाधिक लोकप्रिय फिल्‍म: बधाई हो

अन्य पुरस्कारों की सूची

सामाजिक मुद्दों को उठाने वाली सर्वश्रेष्‍ठ फिल्‍म: पैडमैन (अक्षय कुमार)
सर्वश्रेष्‍ठ संगीत निर्देशक: संजय लीला भंसाली (फिल्‍म्‍ा पद्मावत के घूमर गाने के लिए)
सर्वश्रेष्‍ठ गायिका: बिंधू मालिनी (कन्‍नड़ फिल्‍म नातीचरामी के गीत मायावी मनावे के लिए)
सर्वश्रेष्‍ठ पार्श्‍वगायक: अरिजीत सिंह (पद्मावत के गाने के लिए)
सर्वश्रेष्‍ठ पार्श्‍वगायिका: बिंदु मालिनी
सर्वश्रेष्‍ठ सह-अभिनेत्री: सुरेखा सीकरी (फिल्‍म बधाई हो)
सर्वश्रेष्‍ठ सह-अभिनेता: स्‍वानंद किरकरे (मराठी फिल्‍म चुम्‍बक के लिए)
पर्यावरण संरक्षण पर बनी सर्वश्रेष्‍ठ फिल्‍म: पानी (मराठी फिल्‍म)
सर्वश्रेष्‍ठ श्रेणी में नर्गिस दत्‍त पुरस्‍कार: ओनडाला इराडाला (कन्‍नड़ फिल्‍म ओनडाला इराडाला को राष्‍ट्रीय एकीकरण के लिए)
फिल्‍मों के लिए सबसे पसंदीदा राज्‍य: उत्‍तराखंड
सर्वश्रेष्‍ठ गैर-फीचर फिल्‍म: विभा बक्‍शी द्वारा निर्देशित ‘सनराईज़ एंड द सिक्रेट लाइफ ऑफ फ्रॉग्‍स’
विज्ञान और प्रोद्योगिकी पर बनी सर्वश्रेष्‍ठ फिल्‍म: एडिसन ऑफ इंडिया
राष्‍ट्रीय एकता पर बनी सर्वश्रेष्‍ठ फिल्‍म: कन्‍नड़ फिल्‍म ‘ओन्‍डला ऐराडल्‍ला’

राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार: एक दृष्टि

राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार फ़िल्मों के क्षेत्र में दिये जाने वाले भारत का सबसे पुराना पुरस्कार है, जो सन 1954 से दिया जा रहा है. यह पुरस्कार तीन खंडो मे प्रदान किये जाते है– फीचर फिल्म, गैर-फीचर फिल्म और सिनेमा पर श्रेष्ठ लेखन.

50वां IIFI गोआ में आयोजित किया गया, फिल्‍म ‘पार्टिकल्‍स’ को सर्वश्रेष्‍ठ फिल्‍म का पुरस्‍कार

50वां भारतीय अन्‍तर्राष्‍ट्रीय फिल्‍म समारोह (International Film Festival of India- IIFI) का आयोजन 20 से 28 नवंबर 2019 तक गोआ के पणजी में किया गया था. इस वर्ष आयोजन का विषय एक भारत श्रेष्‍ठ भारत था. इस समारोह में 76 देशों से दस हजार से अधिक फिल्‍म प्रतिनिधियों के लिए 300 फिल्‍मों का प्रदर्शन किया गया.

इस वर्ष भारतीय अन्‍तर्राष्‍ट्रीय फिल्‍म समारोह (IIFI) की स्‍वर्ण जयंती वर्ष के रूप में आयोजित किया गया था. 1952 में अपनी स्‍थापना के बाद से 50वां वर्ष होने के नाते स्‍वर्ण जयंती मनाई गयी.

IIFI एशिया का सबसे बड़ा और भारत का सबसे प्रतिष्ठित महोत्सव है. यह एशिया में आयोजित होने वाला पहला अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव भी है.

50वें IIFI का भव्‍य समापन समारोह पणजी के डॉक्‍टर एसपी मुखर्जी इंडोर स्‍टेडियम में आयोजित किया गया था. समापन समारोह में IIFI को ICFT- यूनेस्‍को फेलिनी पदक प्रदान किया गया. महोत्सव का समापन ‘मारगे एण्‍ड हर मदर फिल्म’ के प्रदर्शन के साथ हुआ. विश्व के जाने-माने निर्देशक ईरान के मास्टर मोहसेन मख्मलबफ ने इस फिल्म का निर्देशन किया है. इस फिल्म में इटली के वास्तविक जीवन को दिखाया गया है.

समापन समारोह के मौके पर कई फिल्मों और उनसे जुड़े कलाकारों को सम्मानित किया गया:

  1. सर्वश्रेष्‍ठ फिल्‍म (गोल्‍डन पीकॉक पुरस्‍कार): फ्रांसीसी फिल्‍म निर्माता ब्लेजी हेरिसन की फिल्‍म ‘पार्टिकल्‍स’ को सर्वश्रेष्‍ठ फिल्‍म का पुरस्‍कार मिला। पुरस्‍कार में एक स्‍वर्ण मयूर के अलावा प्रशस्ति पत्र और 40 लाख रुपए नकद दिए जाते हैं.
  2. सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेता: फिल्‍म ‘मारिघेला’ में प्रमुख भूमिका निभाने के लिए सीयू जॉर्ज को सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेता का पुरस्‍कार दिया गया.
  3. सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेत्री: ऊषा जाधव को ‘माई घाट’ फिल्‍म के लिए सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेत्री का पुरस्‍कार दिया गया.
  4. सर्वश्रेष्‍ठ निर्देशक: लिजो जोस पेलिसरी को ‘जल्‍लीकट्टू’ फिल्‍म के लिए सर्वश्रेष्‍ठ निर्देशक का पुरस्‍कार दिया गया.
  5. विशेष ज्‍यूरी पुरस्‍कार: पेमा सेदेन निर्देशित फिल्‍म ‘बैलून’ को विशेष ज्‍यूरी पुरस्‍कार दिया गया जबकि नई प्रविष्टि के तौर पर मॉनस्‍टर और अबोउ लीला को पुरस्‍कृत किया गया.
  6. विशेष पुरस्‍कार: अभिषेक शाह की राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार प्राप्‍त फिल्‍म हेल्‍लारो विशेष पुरस्‍कार दिया गया.
  7. legends of India: कई राष्ट्रीय अन्तर्राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित इलयाराजा को ‘legends of India’ श्रेणी में समनित किया गया.
  8. ITFT का यूनेस्‍को गांधी पुरस्‍कार: ITFT का यूनेस्‍को गांधी पुरस्‍कार रिकॉर्ड ऑफ सेलिब्रेटी द्वारा निर्देशित ‘रेवांडा’ को दिया गया.

अभिनेता रजनीकांत को गोल्‍डन जुबली पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया

भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IIFI) की स्वर्ण जयंती के प्रतीक के रूप में एक विशेष पुरस्कार ‘आइकॉन ऑफ द गोल्‍डन जुबली’ अवार्ड का गठन किया गया था. पिछले कई दशकों के दौरान भारतीय सिनेमा में उत्कृष्ट योगदान के लिए अभिनेता रजनीकांत को इस सम्मान से सम्‍मानित किया गया.

लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड

सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शकों को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड देकर सम्‍मानित करने की IIFI की परम्‍परा रही है. इस बार ये पुरस्‍कार अपने समय की सबसे मशहूर फ्रांसीसी अभिनेत्री इजाबल हुपे को सिनेमा में उत्‍कृष्‍ट योगदान के लिए दिया गया. IIFI का लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड इस माहेत्‍सव का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्‍कार है. इस पुरस्‍कार में दस लाख रुपये नकद दिए जाते हैं.

इटली की ‘डिस्‍पाइट द फॉग’ उद्घाटन फिल्‍म

इटली की फिल्‍म ‘डिस्‍पाइट द फॉग’ इस वर्ष अंतर्राष्‍ट्रीय भारतीय फिल्‍म समारोह (IIFI) की उद्घाटन फिल्‍म थी. इस फिल्‍म का निर्देशन यूरोप के प्रसिद्ध फिल्‍म निर्माता गोरान पस्‍कालजेविक ने किया है.

विशेष खंड में तीन फिल्‍में दिखाई गयी

यह वर्ष फिल्‍मोत्‍सव का स्‍वर्ण जयंती वर्ष था. इस वर्ष एक विशेष खंड में तीन फिल्‍में दिखाई गयीं. इनमें दो हिन्‍दी फिल्‍में- लगे रहो मुन्‍ना भाई और एम एस धोनी तथा एक कोंकणी भाषा की फिल्‍म क्‍वेस्‍तावो डी कन्‍फुसाओ था.

गोल्‍डन पीकॉक अवॉर्ड

50वें IIFI में गोल्‍डन पीकॉक पुनरावलोकन खण्‍ड में 8 देशों की आठ फिल्‍में दिखाई गयीं. गोल्‍डन पीकॉक अवार्ड की शुरुआत तीसरे भारतीय अंतरराष्‍ट्रीय फिल्‍मोत्‍सव में हुई थी. यह अंतरराष्‍ट्रीय स्‍पर्धा खण्‍ड में इस महोत्‍सव का सबसे अधिक प्रतिष्ठित पुरस्‍कार है. श्रीलंका की फिल्‍म गैम्‍पेरैलिया को 1965 में पहला गोल्‍डन पीकॉक अवॉर्ड दिया गया था.

रूस फोकस देश

रूस IFFI 2019 का फोकस देश है. फोकस देश उस देश को बनाया जाता हैं जो सिनेमा के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान देता है. इस कार्यक्रम के दौरान रूस की आठ फिल्मों का प्रदर्शन किया जाएगा.

25वां कोलकाता अंतर्राष्‍ट्रीय फिल्‍म समारोह का कोलकाता में आयोजन

25वां कोलकाता अंतर्राष्‍ट्रीय फिल्‍म समारोह 8 से15 नवम्बर तक कोलकाता में आयोजित किया जा रहा है. उद्घाटन समारोह में अमिताभ बच्‍चन, शाहरुख खान और पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी शामिल हुए. फिल्म समारोह की शुरूआत सत्‍यजीत रे की ‘गुपी ज्ञान बाघा बयेन’ फिल्म से हुई.

इस वर्ष समारोह में जर्मनी पर केंद्रित फिल्‍में दिखाई जायेगी. फिल्‍मोत्‍सव में 76 देशों की 214 फीचर फिल्‍में और 152 लघु तथा डॉक्‍यूमेंट्री फिल्‍में दिखाई जायेगी.

RKFC पर बनी एक डॉक्युमेंट्री को BAFTA 2019 पुरस्कार दिया गया

रियल कश्मीर फुटबॉल क्लब (RKFC) पर बनी एक डॉक्युमेंट्री को प्रतिष्ठित ‘ब्रिटिश अकैडमी ऑफ फील्ड ऐंड टेलीविजन अवॉर्ड्स’ (BAFTA) 2019 पुरस्कार दिया गया. स्कॉटलैंड के ग्लास्गो में आयोजित समारोह में यह पुरस्कार दिया गया. इस फिल्म को ‘एकल वृत्तचित्र’ वर्ग में पुरस्कार दिया गया.

RKFC में रियल कश्मीर एफसी टीम के कोच के रूप में रेंजर्स टीम के पूर्व स्टार डेविड रोबर्टसन की यात्रा को दर्शाया गया है. रोबर्टसन के मार्गदर्शन में रियल कश्मीर एफसी की टीम भारत की तत्कालीन शीर्ष दर्जे की फुटबॉल लीग आईलीग में अपने पहले ही सत्र में तीसरे स्थान पर रही थी.

फिल्म निर्माता और निर्देशक प्रियदर्शन को राष्ट्रीय किशोर कुमार सम्मान से सम्मानित किया गया

2018-19 के लिए राष्ट्रीय किशोर कुमार सम्मान 13 अक्टूबर को फिल्म निर्माता और निर्देशक प्रियदर्शन को दिया गया. किशोर कुमार की 32वीं पुण्यतिथि पर मध्यप्रदेश के खंडवा में आयोजित पुरस्कार समारोह में उन्हें इस सम्मान से सम्मानित किया गया.

किशोर कुमार सम्मान: एक दृष्टि

  • फिल्म कलाकार एवं पार्श्व गायक किशोर कुमार के नाम पर यह पुरस्कार मध्य प्रदेश सरकार के संस्कृति विभाग द्वारा दिया जाता है.
  • इस पुरस्कार के तहत दो लाख रुपये एवं प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया जाता है.
  • खंडवा किशोर कुमार का जन्म स्थान है और 13 अक्टूबर, 1987 को मुंबई में उनका देहांत हो गया था.

अमिताभ बच्‍चन को वर्ष 2018 के दादा साहब फाल्‍के पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया जाएगा

अमिताभ बच्‍चन को सर्वसम्मति से वर्ष 2018 के दादा साहब फाल्‍के पुरस्‍कार के लिए चुना गया है. उन्हें 66वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार समारोह में इस पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया जाएगा.

दादा साहब फाल्‍के पुरस्‍कार: एक दृष्टि

  1. दादा साहब फाल्के पुरस्कार भारत सरकार की ओर से दिया जाने वाला एक वार्षिक पुरस्कार है.
  2. यह पुरस्कार भारतीय सिनेमा में उसके आजीवन उल्लेखनीय योगदान के लिए दिया जाता है.
  3. इस पुरस्कार का प्रारम्भ प्रड्यूसर, डायरेक्टर और स्क्रीन राइटर दादा साहब फाल्के के जन्म शताब्दि-वर्ष 1969 में हुआ था.
  4. पहली बार यह सम्मान 1969 में 17वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार समारोह में अभिनेत्री देविका रानी को प्रदान किया गया था.
  5. वर्ष 2017 के लिए यह पुरस्‍कार 65वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार समारोह में विनोद खन्ना को दिया गया था.
    इस पुरस्कार में 10 लाख रुपये और स्वर्ण कमल दिये जाते हैं.