पोस्ट



अमरीका के राष्‍ट्रपति डॉनल्‍ड ट्रंप की भारत यात्रा, दोनों देशों के बीच 3 अरब डालर से ज्यादा के रक्षा सौदे पर सहमति

अमरीकी राष्‍ट्रपति डॉनल्‍ड ट्रंप ने 24-25 फरवरी को भारत की यात्रा पर थे. उनकी यह पहली भारत यात्रा थी. इस यात्रा में राष्ट्रपति ट्रंप के साथ उनकी पत्‍नी और अमरीका की प्रथम महिला मिलानिया ट्रम्‍प और प्रमुख प्रशासनिक अधिकारी भी आये थे. इस यात्रा में राष्‍ट्रपति ट्रंप की सलाहकार और उनकी पुत्री इवांका ट्रंप तथा दामाद तथा वरिष्‍ठ सलाहकार जार्ड कुशनर भी शामिल थे.

अहमदाबाद, आगरा और नई दिल्‍ली का दौरा

भारत की इस यात्रा में अमरीकी राष्‍ट्रपति ने अहमदाबाद, आगरा और नई दिल्‍ली का दौरा किया था. यात्रा के दौरान आगरा उन्होंने आगरे का ताजमहल, गुजरात में साबरमती आश्रम और दिल्ली में राष्ट्रपति भवन सहित कुछ प्रमुख स्थानों का दौरा किया.

12 सदस्‍यों का प्रतिनिधिमण्‍डल

अमरीकी राष्‍ट्रपति डॉनल्‍ड ट्रंप और उनकी पत्‍नी मिलानिया ट्रंप के साथ भारत दौरे में उनके साथ 12 सदस्‍यों का प्रतिनिधिमण्‍डल भी था. प्रतिनिधिमंडल में वाणिज्‍य सचिव, ऊर्जा सचिव, राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, कार्यवाहक चीफ ऑफ स्‍टॉफ, राष्‍ट्रपति के दो वरिष्‍ठ सलाहकार, अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार नीति के लिए विशेष प्रतिनिधि और चीफ ऑफ स्टाफ तथा व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव भी शामिल थे.

अहमदाबाद में ‘इंडिया रोड शो’

राष्‍ट्रपति डॉनल्‍ड ट्रंप ने भारत के इस यात्रा की शुरुआत अहमदाबाद से की थी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं हवाईअड्डे पर राष्ट्रपति ट्रंप की आगवानी की थी. वहां दोनों नेताओं ने करीब 22 किलोमीटर लंबे भव्य रोड-शो में भाग लिया जिसका नाम ‘इंडिया रोड शो’ दिया गया था.

हैदराबाद हाउस में उच्‍चस्‍तरीय बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के बीच 25 फरवरी को नई दिल्‍ली के हैदराबाद हाउस में उच्‍चस्‍तरीय वार्ता बैठक हुई. बैठक में व्‍यापार, निवेश, रक्षा तथा सुरक्षा, आतंकवाद से निपटने, ऊर्जा सुरक्षा और हिंद प्रशांत क्षेत्र की स्थिति पर विचार-विमर्श किया गया.

वार्ता के बाद दोनों पक्षों ने 3 अरब डालर से ज्यादा के रक्षा सौदे पर सहमति जतायी. दोनों देशों ने तीन समझौतों पर हस्‍ताक्षर किये. इनमें मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य तथा चिकित्‍सा उत्‍पादों की सुरक्षा के बारे में समझौता ज्ञापन और LNG के निर्यात के लिए एक्‍सन मोबिल तथा इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के बीच समझौता शामिल है. दोनों पक्षों ने रणनीतिक ऊर्जा भागीदारी बढ़ाने का भी फैसला किया है.

दोनों नेताओं के बीच हुई बैठक में चौबीस रोमियो हैलीकॉप्‍टरों की खरीद को भी अंतिम रूप दिया गया. दोनों देश नशीले पदार्थों की तस्‍करी को रोकने के लिए नई व्‍यवस्‍था बनाने पर सहमत हुए. भारत और अमरीका ने आतंकवाद के समर्थकों को भी आतंकवाद का दोषी ठहराने के प्रयास तेज करने का फैसला किया.

मिलानिया ट्रम्‍प हैप्‍पीनैस क्‍लास में शामिल हुई

अमरीका की प्रथम महिला मिलानिया ट्रम्‍प नई दिल्‍ली के मोती बाग में सर्वोदय विद्यालय देखने पहुंची थीं. श्रीमती ट्रम्‍प ने दिल्‍ली के इस स्‍कूल में बच्‍चों से बातचीत की, विद्यालय की विभिन्‍न गतिविधियों की जानकारी ली और वे पाठ्यक्रम की हैप्‍पीनैस क्‍लास में शामिल हुई.

‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम का आयोजन

अमरीकी राष्‍ट्रपति डॉनल्‍ड ट्रंप के स्‍वागत में अहमदाबाद में ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम आयोजित किया गया था. यह आयोजन मोटेरा में विश्व के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम ‘सरदार पटेल स्टेडियम’ में किया गया था. इस स्टेडियम को पहले ‘मोटेरा स्टेडियम’ नाम से जाता था.

अमेरिका के ह्यूस्टन में 2019 में आयोजित ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम के आधार पर इस कार्यक्रम का नाम ‘नमस्ते ट्रंप’ रखा गया था. कार्यक्रम का आयोजन डोनाल्ड ट्रम्प नगरिक अभिदान समिति द्वारा किया गया था. इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप ने एक लाख से ज्यादा लोगों की उपस्थिति में मंच साझा किया.

भारत की यात्रा करने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति

डोनाल्ड ट्रंप छठे अमेरिकी राष्ट्रपति हैं जिन्होंने भारत की यात्रा की है. इससे पहले 1959 में ड्विट डी ईसेनहॉवर, 1969 में निक्सन, 1978 में कार्टर, 2000 में बिल क्लिंटन, 2006 में जार्ज डब्ल्यू बुश और 2010- 2015 में ओबामा भारत के दौरे पर आ चुके हैं. डोनाल्ड ट्रम्प गुजरात का दौरा करने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति हैं.

वर्ष 2000 में अमरीकी राष्‍ट्रपति बिल क्‍लिंटन की भारत यात्रा को परिवर्तनकारी माना जाता है. इस यात्रा के दौरान क्लिंटन और तत्‍कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने आपसी संबंधों को प्रगाढ़ बनाने की भूमिका रखी थी. यह यात्रा भारत और अमरीका के बीच रणनीतिक और आर्थिक साझेदारी की शुरूआत थी.

साल 2006 में जॉर्ज बुश ने अपने पहले कार्यकाल में भारत की यात्रा की जिसे परमाणु समझौते को अंतिम रूप देने की उपलब्धि के रूप में याद किया जाता है. इसी समझौते के बाद भारत के लिए वाणिज्यि‍क परमाणु गतिविधियां शुरू करने का रास्ता खुला था.

2010 में बराक ओबामा की यात्रा से भारत-अमरीकी संबंधों को और प्रगाढ़ तथा मजबूत करने का संदेश दिया गया. ओबामा ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता का समर्थन किया. ओबामा ने 2015 में अपनी पत्नी मिशेल के साथ दोबारा भारत की यात्रा की और इस तरह पद पर रहते हुए दो बार भारत यात्रा करने वाले वह पहले अमरीकी राष्ट्रपति बने.

भारत और अमरीका के बीच द्विपक्षीय व्यापार

भारत और अमरीका के बीच कुल द्विपक्षीय व्यापार पिछले दो वर्ष में 10 प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर बढ़ा है और यह 2018 में 142 अरब डॉलर पहुंच गया. दोनों देशों की ओर से वाणिज्यिक वस्तुओं का व्यापार लगभग 87 अरब डॉलर हो गया है. इसमें से भारत ने अमरीका को 54 अरब डॉलर मूल्य की वस्तुओँ का निर्यात किया.

ऊर्जा क्षेत्र में अमरीका, भारत के प्रमुख साझेदार के रूप में उभरा है. अमरीका और भारत के कच्चे तेल के आयात का छठा सबसे बड़ा स्रोत भी बन गया है. भारत ने अमेरिका से 18 अरब डॉलर के रक्षा उत्पादों को खरीद की है.

चीन को पीछे छोड़कर भारत अमेरिका का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बना

अमेरिका अब चीन को पीछे छोड़कर भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बन गया है. वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2018-19 में भारत और अमेरिका के बीच 87.95 अरब डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार हुआ था. इस दौरान भारत का चीन के साथ द्विपक्षीय व्यापार 87.07 अरब डॉलर रहा. इसी तरह 2019-20 में अप्रैल से दिसंबर के दौरान भारत का अमेरिका के साथ द्विपक्षीय व्यापार 68 अरब डॉलर रहा, जबकि इस दौरान भारत और चीन का द्विपक्षीय व्यापार 64.96 अरब डॉलर रहा.

भारत-अमेरिका व्यापर: एक दृष्टि

  • अमेरिका उन चुनिंदा देशों में से है, जिसके साथ व्यापार संतुलन का झुकाव भारत के पक्ष में है. वर्ष 2018-19 में भारत का चीन के साथ जहां 53.56 अरब डॉलर का व्यापार घाटा (trade deficit) रहा था, वहीं अमेरिका के साथ भारत 16.85 अरब डॉलर के व्यापार लाभ (trade surplus) की स्थिति में था.
  • भारत और अमेरिका आने वाले समय में भी आर्थिक संबंधों को बढ़ाने की कोशिश में जुटे हुए हैं. यदि दोनों देश ‘मुक्त व्यापार समझौता’ (FTA) कर लेते हैं तो द्विपक्षीय व्यापार बहुत आगे स्तर पर पहुंच सकता है.
  • अमेरिका के साथ FTA भारत के लिये बेहद फायदेमंद होगा क्योंकि अमेरिका भारतीय माल एवं सेवाओं का सबसे बड़ा बाजार है.
  • अमेरिका के साथ भारत का आयात और निर्यात दोनों बढ़ रहा है, जबकि चीन के साथ आयात-निर्यात दोनों में गिरावट आ रही है.
  • भारत अमेरिका में स्टील, स्टील उत्पाद और एल्युमिनियम उत्पादों का निर्यात करीब 22.7 अरब डॉलर का हुआ था.
    भारत को अमेरिका के साथ FTA करते वक्त सावधान रहने की जरूरत है, क्योंकि अमेरिका मक्का और सोयाबीन जैसे जिंसों का सबसे बड़ा उत्पादक व निर्यातक है.

सेतुरमन पंचनाथन अमेरिका में प्रतिष्ठित नेशनल साइंस फाउंडेशन के निदेशक चुने गये

अमरीकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प ने भारतीय-अमरीकी कंप्यूटर वैज्ञानिक सेतुरमन पंचनाथन को प्रतिष्ठित नेशनल साइंस फाउंडेशन (NSF) का निदेशक चुना है. पंचनाथन फ्रांस कोर्डोवा का स्थान लेंगे, जिनका निदेशक के रूप में छह साल का कार्यकाल 2020 में समाप्त होगा.

NSF एक अमरीकी सरकारी एजेंसी है जो विज्ञान और इंजीनियरिंग के सभी गैर-चिकित्सा क्षेत्रों में मौलिक अनुसंधान और शिक्षा में मदद करती है.

सेतुरमन पंचनाथन वर्तमान में एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी में कार्यकारी उपाध्यक्ष और मुख्य अनुसंधान और नवाचार अधिकारी हैं. इसके अलावा वह ASU में सेंटर फॉर कॉग्निटिव यूबिकिटस कंप्यूटिंग के संस्थापक निदेशक भी हैं.

भारत और अमरीका के बीच मंत्री स्तरीय दूसरा टू-प्लस-टू वार्ता वाशिंग्टन में आयोजित की गयी

भारत और अमरीका के बीच मंत्री स्तरीय दूसरी टू-प्लस-टू वार्ता (Indo US 2nd Two-plus-two Dialogue) वाशिंग्टन में 18 दिसम्बर को आयोजित की गयी. विदेश मंत्री एस जयशंकर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस वार्ता बैठक में भारतीय पक्ष का नेतृत्व किया. अमरीका की ओर से वहां के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने इस बातचीत में प्रतिनिधित्व किया.

इस वार्ता में दोनों देशों के बीच क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर विचार-विमर्श किया गया. दोनों देश द्विपक्षीय सहयोग और रक्षा व्यापार और मजबूत करने पर सहमत हुए हैं. जापान जैसे समान विचार वाले देशों के साथ हिंद प्रशांत क्षेत्र को शांतिमय बनाने और आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़ने के लिए तालमेल बढ़ाने पर भी दो देश सहमत हुए.

वार्ता में दोनों देशों ने आपसी संबंधों को 2020 में नये स्तर तक पहुंचाने की रूपरेखा तय की. दोनों पक्षों ने निर्वाचित प्रतिनिधियों के बीच संपर्क मजबूत करने, औद्योगिक सुरक्षा, अंतरिक्ष, विज्ञान, जल तथा लोगों के बीच संबंध बढ़ाने के अनेक समझौतों पर हस्ताक्षर किए. इस वार्ता में दोनों देशों के बीच अंतरिक्ष, रक्षा और औद्योगिक सहयोग के नये समझौतों पर हस्ताक्षर हुए.

भारत और अमरीका ने अलकायदा, इस्लामिक स्टेट, लश्कर-ए-तैय्यबा, जैश-ए-मोहम्मद, हक्कानी नेटवर्क, हिज्बुल मुजाहिदीन और डी कंपनी सहित सभी आतंकवादी गुटों के खिलाफ एकजुट कार्रवाई का आह्वान किया. दोनों देशों ने पाकिस्तान से तत्काल, अचूक और सतत कार्रवाई करने को कहा है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उसके नियंत्रण वाले किसी भी क्षेत्र का इस्तेमाल अन्य देशों के खिलाफ आतंकवाद के लिए न किया जा सके.

भारत-अमरीका टू-प्लस-टू दूसरी मंत्रिस्तरीय वार्ता के बाद जारी संयुक्त बयान में दोनों देशों ने पाकिस्तान से 26 नवंबर 2008 के मुंबई आतंकी हमले और पठानकोट हमले सहित सीमापार से आतंकी हमलों के दोषिय़ों को गिरफ्तार करने और उन पर मुकदमा चलाने को कहा. भारत ने जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर सहित अन्य आतंकवादियों के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र में अमरीका के समर्थन की सराहना की.

वार्ता में अमरीका ने पुनर्गठित संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता और परमाणु आपूर्तिकर्ता देशों के समूह में भारत को जल्दी प्रवेश दिये जाने के प्रति मजबूत समर्थन व्यक्त किया.

भारत-अमरीका टू-प्लस-टू वार्ता: एक दृष्टि

  • भारत-अमरीका टू-प्लस-टू वार्ता में दोनों देशों के दो-दो मंत्री (विदेश और रक्षा) और उनके प्रतिनिधिमंडल हिस्सा लेते हैं.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प की स्वीकृति के बाद पहली टू-प्लस-टू वार्ता सितंबर 2018 में नई दिल्ली में हुई थी. इस वार्ता में दोनों देशों के बीच विदेश नीति और रक्षा के क्षेत्रों में बहुत प्रगति हुई थी.
  • यह वार्ता बैठक दोनों देशों के बीच उच्चतम स्तर का संस्थागत तंत्र है जो विदेश नीति, रक्षा और रणनीतिक मुद्दों पर दोनों के विचारों को एक साथ लाता है.

भारत और अमेरिका के बीच संयुक्त अभ्यास ‘टाईगर ट्रंफ’ का आयोजन

भारत और अमेरिका के बीच 13 से 21 नवंबर के दौरान संयुक्त सैन्य-अभ्यास (Indo-US Joint Military Exercise) का आयोजन किया गया. इस सैन्य-अभ्यास का नाम ‘टाइगर ट्रंफ’ था. यह सैन्य-अभ्यास आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम और काकीनाडा में आयोजित किया गया. इसका उद्देश्य दोनों ही देशों की सेना के बीच बेहतरीन तालमेल बनाना था.

इस युद्धाभ्यास में भारतीय थल, जल और वायुसेना (त्रि-सेवा) के 1200 जवान और 500 अमेरिकी जवान शामिल हुए. इसमें युद्धाभ्यास के साथ ही आपदा के दौरान मदद पहुंचाने पर भी अभ्यास किया गया. यह भारत और अमेरिका के बीच प्रथम त्रि-सेवा अभ्यास था. इससे पहले 2017 में भारत और रूस के बीच रूस के व्लादिवोस्टोक में त्रि-सेवा युद्ध अभ्यास ‘इंद्र’ का आयोजन किया गया था.

समुद्र में लूट और तस्करी रोकने के लिए अमेरिका के 10वें राष्ट्रीय दक्षिण-पूर्व एशिया सहयोग और प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत 9 दिन के इस युद्धाभ्यास का आयोजन किया गया था.

अमेरिका ने इस युद्धाभ्यास को इंडो-पैसेफिक क्षेत्र में सुरक्षा सहयोग बढ़ाने का उदाहरण कहा है. डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद अमेरिका ने भारतीय प्रशांत क्षेत्र के सहयोगियों के साथ सुरक्षा सहयोग एक बड़ी रकम खर्च की है ताकि क्षेत्र में शांति और स्थिरता बनी रहे.

7वीं भारत-अमेरिका आर्थिक और वित्तीय साझेदारी बैठक नई दिल्ली में आयोजित की गयी

7वीं भारत-अमेरिका आर्थिक और वित्तीय साझेदारी बैठक 1 नवम्बर को नई दिल्ली में आयोजित की गयी. बैठक में भारतीय पक्ष का नेतृत्व वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन और अमरीकी शिष्टमण्डल का नेतृत्व अमेरिकी वित्त मंत्री स्टीवन म्नुचिन ने किया.

बैठक में दोनों पक्षों ने धन-शोधन और आतंकवादियों को धन मुहैया कराने की रोकथाम सहित विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श किया गया. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अफगानिस्तान को ईरान के चाबहार बंदरगाह से सड़क के जरिए संपर्क उपलब्ध कराने पर जोर दिया.

अमरीका-भारत कार्यनीतिक साझेदारी फोरम की बैठक नई दिल्ली में आयोजित की गयी


अमरीका और भारत के कार्यनीतिक साझेदारी फोरम (US India Strategic Partnership Forum- USISPF) की बैठक 21 अक्टूबर को नई दिल्ली में आयोजित की गयी. बैठक में वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने दोनों देशों को द्विपक्षीय समझौते जैसे बड़े उपायों पर ध्यान केंद्रित करने की बात कही. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने अमरीकी कंपनियों को प्रौद्योगिकी, पूंजी और नए व्यापार मॉडल तथा भारत की जैव ईंधन क्रांति में भागीदारी के लिए आमंत्रित किया.

अमरीका-भारत कार्यनीतिक साझेदारी फोरम के सदस्यों ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की. इस मुलाकात में प्रधानमंत्री ने तीन D डेमोक्रेसी (लोकतंत्र), डेमोग्राफी (जनसांख्यिकी), और दिमाग (बौद्धिक क्षमता) को भारत की विशिष्ट पहचान बताया. उन्होंने कारोबार आसान बनाने के लिए कॉरपोरेट टैक्स में कमी, श्रम सुधार और भारतीय युवाओं की उद्यमिता जोखिम क्षमता बढाने जैसे सरकार के उपायों की चर्चा भी की. फोरम के सदस्यों ने प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण में भरोसा व्यक्त करते हुए कहा कि भारत के अगले 5 वर्ष विश्व के अगले 25 वर्षों का निर्धारण करेंगे.

अमरीका और भारत के कार्यनीतिक साझेदारी फोरम (USISPF) का उद्देश्य आर्थिक वृद्धि, उद्यमिता, रोजगार सृजन और नवाचार क्षेत्रों में भारत और अमरीका के बीच कार्यनीतिक साझेदारी मजबूत करना है. USISPF की स्थापना 2017 में की गयी थी.

प्रधानमंत्री की अमेरिका यात्रा 2019: ब्लूमबर्ग ग्लोबल बिजनेस फोरम में मुख्य वक्ता के तौर पर शामिल हुए


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 21 से 27 सितंबर तक अमेरिका की यात्रा पर थे. इस यात्रा के दौरान वह संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा के 74वें अधिवेशन को संबोधित करने के साथ-साथ कई कार्यक्रमों में हिस्सा लिया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 सितम्बर को न्यूयॉर्क में ब्लूमबर्ग ग्लोबल बिजनेस फोरम में मुख्य वक्ता के तौर पर शामिल हुए. उनहोंने दुनिया भर की कंपनियों को भारत में निवेश के लिये आमंत्रित किया.

भारत की विकास गाथा के लिए 4D
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत की विकास गाथा के चार अहम तत्व हैं जो एक साथ, दुनिया में मिलने मुश्किल हैं. ये 4D हैं, डेमोक्रेसी, डिमांड, डेमोग्राफी और डिसाइसेवनेस.


प्रधानमंत्री की अमेरिका यात्रा: UNGA के 74वें अधिवेशन सहित कई कार्यक्रमों में हिस्सा लिया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 21 से 27 सितंबर तक अमेरिका की यात्रा की. इस यात्रा के दौरान उन्होंने संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा (UNGA) के 74वें अधिवेशन को संबोधित करने के साथ-साथ कई कार्यक्रमों में हिस्सा लिया.

  1. अमरीका की अपनी यात्रा के दौरान श्री मोदी ने 22 सितम्‍बर को भव्‍य ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में हिस्‍सा लिया. ह्यूस्‍टन के एनआरजी स्‍टेडियम में आयजित इस कार्यक्रम में उन्‍होंने भारतीय मूल के करीब पचास हजार अमरीकी नागरिकों और प्रवासियों को संबोधित किया. अमरीकी राष्‍ट्रपति डोनल्‍ड ट्रम्‍प ह्यूस्‍टनके इस कार्यक्रम में शामिल हुए.
  2. 23 सितम्‍बर को प्रधानमंत्री ने न्‍यूयार्कमें संयुक्‍त राष्‍ट्र मुख्‍यालय में जलवायु शिखर सम्‍मेलन (Climate Action Summit) को संबोधित किया. इस शिखर सम्मेलन का उद्देश्य पेरिस समझौते का शीघ्र क्रियान्वयन सुनिश्चित करना था.
  3. 24 सितम्‍बर को प्रधानमंत्री ने गांधीसोलर पार्क का उद्घाटन किया और महात्‍मा गांधी की 150वीं जंयती के सिलसिले में एक विशेष कार्यक्रम को सबोधित किया. उन्‍होंने अमरीकी राष्‍ट्रपति से द्विपक्षीय वार्ता भी की.
  4. प्रधानमंत्री मोदी को 24 सितंबर को ग्लोबल गोलकीपर अवार्ड से सम्मानित किया गया. यह सम्मान अमेरिका स्थित बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन द्वारा भारत में स्वच्छ भारत मिशन के कुशल नेतृत्व के लिये प्रदान किया गया.
  5. उन्‍होंने 25 सितम्‍बर को ग्‍लोबल बिजनेस फोरम की बैठक को संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत की विकास गाथा के चार अहम तत्व हैं जो एक साथ, दुनिया में मिलने मुश्किल हैं. ये 4D हैं, डेमोक्रेसी, डिमांड, डेमोग्राफी और डिसाइसेवनेस.
  6. 26 सितम्‍बर को न्यूयॉर्क में भारत-कैरिकॉम नेताओं की पहली बैठक में 15 कैरिकॉम देशों के नेताओं ने हिस्सा लिया. बैठक का आयोजन भारत की पहल पर हुआ था. सेंट लूसिया के प्रधानमंत्री ने इस बैठक की अध्यक्षता की थी.
  7. प्रधानमंत्रीकी अमरीका यात्रा का समापन 27 सितम्‍बर को संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा (UNGA) के 74वें अधिवेशन में उनके भाषण से हुआ. प्रधानमंत्री मोदी का संयुक्त राष्ट्र महासभा में यह दूसरा संबोधन था. पिछली बार 2014 में प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित किया था. संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रधानमंत्री मोदी ने हिंदी में ही अपनी बात रखी.


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा 2019: ह्यूस्टन में ‘हाउडी-मोदी’ रैली का आयोजन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 21 से 27 सितंबर तक अमेरिका की यात्रा पर थे. इस यात्रा के दौरान वह संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा के 74वें अधिवेशन को संबोधित करने के साथ-साथ कई कार्यक्रमों में हिस्सा लिया.

ह्यूस्टन में ‘हाउडी-मोदी’ रैली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस अमेरिका यात्रा के दौरान 22 सितम्बर को एक रैली को संबोधित किया. यह रैली अमेरिका में ह्यूस्टन के NRG स्‍टेडियम में आयोजित किया गया था. अमरीका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प भी प्रधानमंत्री मोदी की इस रैली में विशेष मैत्री सद्भाव के तौर शामिल हुए.

हाउडी-मोदी: साझा सपने और सुनहरा भविष्‍य

इस रैली का नाम “हाउडी-मोदी” दिया गया था. इस रैली की थीम “साझा सपने और सुनहरा भविष्‍य” था. हाउडी का अर्थ है- आप कैसे हैं. इसका इस्‍तेमाल दक्षिण-पश्चिम अमरीका में सामान्‍य अभिवादन के लिए किया जाता है.

यह कार्यक्रम अपने आप में ऐतिहासिक था क्योंकि पूरे अमरीका से 50 हजार से अधिक भारतीय-अमरीकी लोगों ने इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया. हाउडी मोदी कार्यक्रम का आयोजन टैक्‍सस इंडिया फोरम ने किया था.

हाउडी-मोदी के मुख्य बिंदु

  • पहली बार अमरीका में किसी विदेशी नेता ने इतने विशाल जन-समुदाय को संबोधित किया.
  • अमरीका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प ने हाउडी-मोदी को संबोधित करते हुए मोदी सरकार के आर्थिक सुधारों की सराहना की.
  • राष्‍ट्रपति ट्रम्‍प ने दोनों देशों के बीच सुरक्षा संबंध मजबूत करने पर बल दिया. उन्होंने कट्टर इस्‍लामी आतंकवाद के खात्मे की बात कही. उन्‍होंने कहा कि सीमा सुरक्षा अमरीका और भारत दोनों के लिए महत्‍वपूर्ण है.
  • अमरीकी राष्ट्रपति ने नवम्‍बर 2019 में दोनों देशों की सेनाओं के तीनों अंगों के संयुक्‍त अभ्‍यास की घोषणा की. यह इस तरह का पहला अभ्‍यास होगा.
  • प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने आतंकवाद और इसे बढ़ावा देने वालों के खिलाफ निर्णायक संघर्ष का आह्वान किया.
  • प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जम्‍मू-कश्‍मीर के लोग अनुच्‍छेद-370 के कारण विकास के लाभ से वंचित थे तथा आतंकवादी और अलगाववादी ताकतें हालात का फायदा उठा रही थीं.
  • उन्‍होंने दोनों देशों के बीच सुरक्षा संबंध मजबूत करने पर बल दिया. उन्‍होंने कहा कि भारत और अमरीका के मजबूत संबंध एक नये इतिहास के निर्माण के साक्षी बनेंगे.