Posts



भारतीय घुड़सवार फ़वाद मिर्ज़ा ने ओलंपिक कोटा हासिल किया

भारतीय घुड़सवार फ़वाद मिर्ज़ा ने ओलिंपिक क्वॉलिफायर्स में शीर्ष पर रहते हुए ओलिंपिक कोटा (Tokyo Olympics 2020) हासिल किया. इस मामले में आधिकारिक घोषणा अन्तर्राष्ट्रीय घुड़सवारी महासंघ द्वारा 20 फरवरी को किया जायेगा.

इस प्रतियोगिता में 20 साल में पहली बार भारत को ओलंपिक कोटा हासिल हुआ है. इससे पहले सिर्फ इम्तियाज अनीस ने वर्ष 2000 में हुए सिडनी ओलंपिक और दिवंगत विंग कमांडर आईजे लांबा ने 1996 अटलांटा ओलंपिक में भारत का घुड़सवारी में प्रतिनिधित्व किया था.

फ़वाद इस महीने यूरोपीय टूर खत्म होने के बाद दक्षिण पूर्व एशिया, ओसियाना ग्रुप-जी की व्यक्तिगत स्पर्धा में शीर्ष रैंकिंग के घुड़सवार हैं. एशियाई खेलों में फ़वाद ने दो पदक जीतने में सफलता पाई थी.

2024 का पेरिस ओलिंपिक खेलों के लोगो का अनावरण किया गया

2024 का ओलिंपिक खेल फ्रांस की राजधानी पेरिस में आयोजित किया जायेगा. इस खेल प्रतियोगिता का लोगो 22 अक्टूबर को जारी किया गया. इसमें ओलिंपिक और पैरालिंपिक खेलों के लिए अलग-अलग लोगो लॉन्च किया गया है.

यह लोगो सर्कुलर डिज़ाइन और पेरिस 2024 आर्ट डेको स्टाइल (art deco style) में हैं. इस लोगो में पेरिस-2024 खेलों को प्रशंसकों के दिलों तक पहुंचाने का विजन दिखता है.

बीजिंग में 2022 में होने वाले शीतकालीन ओलंपिक और पैरालंपिक के शुभंकर को सार्वजनिक किया गया

मुस्कुराता पांडा और लाल रंग की लालटेन की शक्ल वाला बच्चा बीजिंग में 2022 में होने वाले शीतकालीन ओलंपिक (Olympic Winter Games) और पैरालंपिक (Paralympic) का शुभंकर होगा. बीजिंग में एक समारोह में इन दोनों शुभंकर को सार्वजनिक किया गया.

पांडा का नाम ‘बिंग ड्वेन ड्वेन’ (Bing Dwen Dwen) है और वह शीतकालीन ओलंपिक का शुभंकर है. उसके चेहरे पर रंगीन वृत हैं जो कि स्केटिंग ट्रैक और 5G टेक्नोलोजी के प्रतीक है. चीनी भाषा में बिंग का मतलब बर्फ होता है जबकि ड्वेन-ड्वेन का मतलब ईमानदारी, जीवंतता और स्वास्थ्य है.

पैरालंपिक का शुभंकर पारंपरिक लाल लालटेन पर आधारित है जिसका नाम ‘शुए रोन रोन’ (Shuey Ron Ron!) है.