Posts

बांग्लादेश के प्रधानमंत्री को ‘SDG Progress Award’ से सम्मानित किया गया

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना को ‘SDG Progress Award’ से सम्मानित किया गया है. उन्हें यह सम्मान गरीबी समाप्त करने, और शांति और समृद्धि सुनिश्चित करने में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया है. यह पुरस्कार संयुक्त राष्ट्र के Sustainable Development Solutions Network (SDSN) द्वारा प्रदान किया गया.

SDSN क्या है?

Sustainable Development Solutions Network (SDSN) सतत विकास हेतु व्यावहारिक समाधान को बढ़ावा देने के लिये वैश्विक वैज्ञानिक और तकनीकी विशेषज्ञता जुटाता है, जिसमें सतत विकास लक्ष्यों (SDG) और पेरिस जलवायु समझौते का कार्यान्वयन भी शामिल है. SDSN संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों, बहुपक्षीय वित्तपोषण संस्थानों, निजी क्षेत्र और नागरिक समाज के साथ मिलकर काम करता है. SDSN की स्थापना 2012 में संयुक्त राष्ट्र महासचिव के तत्वावधान में की गई थी.

लेटेस्ट कर्रेंट अफेयर्स 〉

संयुक्त राष्ट्र ने तीन भारतीय शांति सैनिक को सम्मानित करने की घोषणा की

संयुक्त राष्ट्र ने विश्व के 129 सैन्य, पुलिस और नागरिक कर्मियों को प्रतिष्ठित पदक से सम्मानित की घोषणा की है. इन्हें ड्यूटी के दौरान साहस और बलिदान के लिए मरणोपरांत संयुक्त राष्ट्र पदक से सम्मानित किया जायेगा.

सम्मानित किये गये शांति सैनिकों में से तीन भारतीय शांति सैनिक हैं. ये भारतीय सैनिक कॉर्पोरल युवराज सिंह, नागरिक शांति रक्षक इवान माइकल पिकार्डो और मूलचंद यादव हैं.

युवराज सिंह दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNMISS) में सेवारत थे, जबकि इवान माइकल पिकार्डो UNAMISS के साथ एक नागरिक शांति रक्षक के रूप में जुड़े थे. मूलचंद यादव इराक में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (UNAMI) से जुड़े थे. इन तीनों भारतीय शांतिरक्षकों ने 2020 में संयुक्त राष्ट्र (UN) के शांति अभियानों में सेवा करते हुए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए थे.

भारत संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना में वर्दीधारी कर्मियों का पांचवां सबसे बड़ा योगदानकर्ता है.

लेटेस्ट कर्रेंट अफेयर्स 〉

मारिया रेसा को गिलर्मो केनो विश्व प्रेस स्वतंत्रता पुरस्कार 2021 के लिए नामित किया गया

मारिया रेसा (Maria Ressa) को UNESCO के गिलर्मो केनो विश्व प्रेस स्वतंत्रता पुरस्कार 2021 के लिए नामित किया गया है. मारिया रेसा अंतर्राष्ट्रीय समाचार एजेंसी CNN के प्रमुख हैं. UNESCO ने खोजी रिपोर्टर के रूप उनके काम के लिए इस पुरस्कार से पुरस्कृत किया है.

गिलर्मो केनो विश्व प्रेस स्वतंत्रता पुरस्कार: एक दृष्टि

  • गिलर्मो केनो विश्व प्रेस स्वतंत्रता पुरस्कार (Guillermo Cano World Press Freedom Prize) की सुरुआत 1997 में हुई थी.
  • यह पुरस्कार ऐसे व्यक्ति, संगठन या संसथान को दिया जाता है जो खतरों की प्रवाह किये बगैर पत्रकारिता करते हैं.
  • प्रत्येक वर्ष 3 मई को मनाये जाने वाले विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस (World Press Freedom Day) के दिन यह पुरस्कार प्रदान किया जाता है.
  • पुरस्कार स्वरुप 45,000 अमेरिकी डॉलर प्रदान किये जाते हैं.
  • इस पुरस्कार का नाम कोलंबिया के समाचार-पत्र एल एस्प्कात्दोर (El Espectador) के एडिटर गिलर्मो केनो इसज़ा (Guillermo Cano Isaza) पर रखा गया है.
लेटेस्ट कर्रेंट अफेयर्स 〉

WCCB को संयुक्‍त राष्‍ट्र का एशिया एनवायरनमेंट एनफोर्समेंट अवार्ड-2020

भारत के वन्‍य जीव अपराध नियंत्रण ब्‍यूरो (WCCB) को ‘एशिया एनवायरनमेंट एनफोर्समेंट अवार्ड’ ( Asia Environmental Enforcement Awards) -2020 से सम्मानित किया गया है. यह पुरस्कार संयुक्‍त राष्‍ट्र पर्यावरण कार्यक्रम की ओर से दिया जाता है. भारत में वन्‍य जीव अपराधों को रोकने के लिए प्रतिबद्धता के लिए WCCB को तीन वर्षों में दो बार यह पुरस्‍कार मिला है. WCCB को यह पुरस्‍कार नवोन्‍मेष श्रेणी में दिया गया है.

वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो (WCCB)

वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो (Wildlife Crime Control Bureau) देश में वन्यजीव अपराध पर नियंत्रण के लिए भारत सरकार द्वारा स्थापित एक सांविधिक संस्था है. यह पर्यावरण एवं वन मंत्रालय के अधीन काम करता है. WCCB का मुख्यालय नई दिल्ली में है.

लेटेस्ट कर्रेंट अफेयर्स 〉

UNIFIL में तैनात भारतीय बटालियन को पर्यावरण संबंधी प्रथम पुरस्कार

लेबनान में संयुक्त राष्ट्र के अंतरिम बल (UNIFIL) में तैनात एक भारतीय बटालियन (INDBATT) को पर्यावरण संबंधी प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. भारतीय बटालियन को यह पुरस्कार कचरा कम करने, प्लास्टिक का दोबारा इस्तेमाल करने, ग्रीन हाऊस और जैविक खाद के गड्ढे बनाने के उद्देश्य वाली एक परियोजना के लिए दिया गया है.

आयरिश-पोलिश बटालियन को दूसरा पुरस्कार

मिशन के सेक्टर वेस्ट मुख्यालय और आयरिश-पोलिश बटालियन (IRISHPOLBATT) ने दूसरा पुरस्कार प्राप्त किया है. आयरिश-पोलिश बटालियन को यह पुरस्कार सेक्टर वेस्ट इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रबंधन केंद्र (IMC) की परियोजना के लिए दिया गया है. इसका उद्देश्य कचरे को जैविक खाद में बदलना और स्थानीय समुदायों को देना है.

UNIFIL के मिशन प्रमुख तथा बल के कमांडर मेजर जनरल स्टीफानो डेल कोल ने पर्यावरण संरक्षण के लिहाज से नवोन्मेषी परियोजना को शुरू करने और क्रियान्वित करने के लिए सात मिशन इकाइयों को वार्षिक पर्यावरण पुरस्कार प्रदान किए.

UNIFIL पर्यावरण पुरस्कार

UNIFIL पर्यावरण पुरस्कार की शुरुआत दिसंबर 2019 में की गई थी. इसका उद्देश्य मिशन के परिचालन क्षेत्रों में पर्यावरण संबंधी उपलब्धियों की पहचान करना है.

लेटेस्ट कर्रेंट अफेयर्स 〉

मेजर सुमन गवानी ‘संयुक्त राष्ट्र मिलिट्री जेंडर एडवोकेट ऑफ द इयर’ से सम्मानित किये गये

भारतीय सेना में मेजर सुमन गवानी को ‘संयुक्त राष्ट्र सैन्य जेंडर एडवोकेट ऑफ द इयर अवार्ड’ (United Nations Military Gender Advocate of the Year Award) 2019 से सम्मानित किया गया है. उन्हें ब्राजील के सैन्य अधिकारी कमांडर कार्ला मोंटेइरो डी कास्त्रो अरुजो के साथ इस पुरस्कार के लिए चुना गया था. पहली बार, दो शांति सैनिकों को संयुक्त रूप से पुरस्कृत किया गया.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस 29 मई को संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिकों के अन्तर्राष्ट्रीय दिवस के अवसर पर एक ऑनलाइन कार्यक्रम में उन्हें सम्मानित किया. यह पहली बार है कि यह प्रतिष्ठित पुरस्कार किसी भारतीय शांतिदूत को दिया गया हो.

सुमन गवानी भारतीय सेना के लिए दक्षिण सूडान में एक सैन्य पर्यवेक्षक (United Nations Mission in South Sudan- UNMISS) के रूप में संयुक्त राष्ट्र के मिशन पर तैनात रही हैं. वहां उन्होंने उल्लेखनीय भूमिका निभाई है. सुमन ने 2010 में भारतीय सेना में बतौर अफसर प्रशिक्षण पूरा किया है.

संयुक्त राष्ट्र मिलिट्री जेंडर एडवोकेट ऑफ द इयर अवार्ड: एक दृष्टि

मिलिट्री जेंडर एडवोकेट ऑफ द इयर अवार्ड वर्ष 2016 से प्रत्येक वर्ष संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रदान किया जाता है. यह पुरस्कार संयुक्त राष्ट्र के शांति अभियानों में महिलाओं के संयुक्त राष्ट्र सिद्धांतों को बढ़ावा देने के लिए दिया जाता है. दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन की शुरुआत जुलाई, 2011 में उस समय की गयी थी जब दक्षिण सूडान ने सूडान से स्वतंत्रता प्राप्त की थी.

लेटेस्ट कर्रेंट अफेयर्स 〉

संयुक्त राष्ट्र में नियुक्त चार राजनयिकों को ‘दिवाली-पावर ऑफ वन’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया

संयुक्त राष्ट्र में नियुक्त चार प्रसिद्ध राजनयिकों को ‘दिवाली-पावर ऑफ वन’ पुरस्कार से 8 दिसम्बर को सम्मानित किया गया. उन्हें यह पुरस्कार सुरक्षित एवं शांतिपूर्ण दुनिया बनाने की दिशा में उनके उल्लेखनीय कार्यों के लिए दिया गया है.

इन राजनयिकों में:

  1. कजाखस्तान के पूर्व विदेश मंत्री एवं संयुक्त राष्ट्र में स्थायी प्रतिनिधि कैरात अब्दराखमानोव
  2. साइप्रस के पूर्व स्थायी प्रतिनिधि निकोलस एमिलीयू
  3. स्लोवाकिया के स्थायी प्रतिनिधि फ्रांतीसेक रूजिका और
  4. यूक्रेन के स्थायी प्रतिनिधि वी येलचेंको शामिल हैं.

इन सभी राजनयिकों को संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में एक समारोह के दौरान इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

‘दिवाली-पावर ऑफ वन’ पुरस्कार: एक दृष्टि

  • ‘दिवाली-पावर ऑफ वन’ पुरस्कार से उन लोगों को सम्मानित किया जाता है जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र के उन मूल्यों को कायम रखा है जिसके लिए यह वैश्विक संस्था जानी जाती है.
  • इस पुरस्कार को ‘कूटनीति के ऑस्कर’ के रूप में जाना जाता है. इसे 2017 में दिवाली फाउंडेशन यूएसए, इंक ने शुरू किया था.
लेटेस्ट कर्रेंट अफेयर्स 〉

यूनेस्को एशिया प्रशांत पुरस्कार के लिए भारत के कुल चार स्थानों का चयन किया गया

यूनेस्को (UNESCO) ने एशिया प्रशांत पुरस्कार (Asia Pacific Award) के लिए भारत के कुल चार स्थानों का चयन किया गया है. इस पुरस्कार की घोषणा मलेशिया के पेनांग में आयोजित एक समारोह में 14 अक्टूबर को की गई. भारत के जिन स्थानों का चयन इन पुरस्कारों के लिए किया गया है, हैं:

हेरिटेजपुरस्कारस्थान
फ्लोरा फाउंटेनऑनरेबल मेंशनमुंबई
केनेसेठ इलियाहू सिनेगागमेरिट अवार्डमुंबई
ग्लोरी चर्चमेरिट अवार्डमुंबई
विक्रम साराभाई पुस्तकालय (IIM)डिस्टिंक्शन अवार्डअहमदाबाद

UNESCO ने सभी श्रेणियों में सर्वोच्च पुरस्कार ‘उत्कृष्टता अवार्ड’ हांगकांग में ‘ताई क्वान सेंटर फॉर हेरिटेज एंड आर्ट्स’ को दिया है.

जयपुर के परकोटा को विश्व धरोहर में शामिल किया गया है

उल्लेखनीय है कि यूनेस्को ने जयपुर के परकोटा को हाल ही में विश्व धरोहर में शामिल किया है. जिसके बाद सरकार ने इसको यूनेस्को की गाइडलाइन के अनुसार संरक्षत करने का काम शुरू कर दिया है. अगर समय रहते यूनेस्को की गाइडलाइन को पूरा नही किया गया तो जयपुर से विश्व धरोहर का पहचान छीन सकता है.

भारतीय वन सेवा के अधिकारी रमेश पांडे को ‘एशिया पर्यावरण प्रवर्तन पुरस्कार’ के लिए चुना गया


भारतीय वन सेवा के वरिष्ठ अधिकारी रमेश पांडे को संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के प्रतिष्ठित ‘एशिया पर्यावरण प्रवर्तन पुरस्कार’ के लिए चुना गया है. पांडे को बैंकॉक में संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन केंद्र में 13 नवंबर को पुरस्कृत किया जाएगा.

पुरस्कार चयन समिति ने पर्यावरण संबंधी सीमा पार अपराध से निपटने में आपके उत्कृष्ट कार्य को पहचाना है. एशिया पर्यावरण प्रवर्तन पुरस्कार का मकसद पर्यावरण संबंधी सीमा पार अपराध को रोकने में उल्लेखनीय योगदान देने वाले संगठनों और लोगों को सार्वजनिक तौर पर मान्यता देना है.

दुधवा बाघ अभयारण्य (कतर्नियाघाट) में शिकार को रोकने में पांडे के काम से प्रभावित होकर केंद्र सरकार ने वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो के गठन के समय उसके अधिकारी के रूप में उनका चयन किया था. अपने कार्यकाल में पांडे ने बाघों का शिकार करने वाले कई गिरोहों का भंडाफोड़ किया था और वन्यजीव तस्करी पर रोक लगायी थी.

हाल में दुधवा बाघ अभयारण्य के फील्ड निदेशक के तौर पर पांडे कतर्नियाघाट के संरक्षित क्षेत्र में कथित शिकार के लिए जाने माने गोल्फर ज्योति रंधावा की गिरफ्तारी को लेकर सुर्खियों में थे.

भारतीय आइटी कंपनी इन्फोसिस को युनाइटेड नेशंस ग्लोबल क्लाइमेट एक्शन अवार्ड दिया गया

भारतीय आइटी कंपनी इन्फोसिस लिमिटेड को ‘युनाइटेड नेशंस ग्लोबल क्लाइमेट एक्शन अवार्ड’ देने की घोषणा 26 सितम्बर को की गयी. इन्फोसिस को यह पुरस्कार ‘क्लाइमेट न्यूट्रल नाऊ’ कैटेगरी में दिया गया है.

इन्फोसिस भारत से एक मात्र कंपनी है जिसे यह पुरस्कार देने की घोषणा की गई है. उसे यह अवार्ड दिसंबर 2019 में चिली के सैंटियागो में यूएन क्लाइमेट चेंज कॉन्फ्रेंस के दौरान दिया जाएगा.

गौरतलब है कि मशहूर अमेरिकी पत्रिका फोर्ब्स द्वारा वर्ष 2019 के लिए दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित कंपनियों की सूची में इन्फोसिस को तीसरा स्थान मिला था. इनफ़ोसिस की स्थापना एनआर नारायण मूर्ती, नंदन नीलेकणी, एस. गोपालकृष्णन, एस. डी शिबूलाल, के दिनेश, एनएस राघवन ने की थी.