Posts

उत्‍तर प्रदेश में ‘मुख्‍यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्‍याण योजना’ की शुरूआत

उत्‍तर प्रदेश सरकार ने ‘मुख्‍यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्‍याण योजना’ की शुरूआत की है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में 21 जनवरी को हुई कैबिनेट की बैठक यह फैसला लिया गया.

इस योजना के तहत प्रदेश के किसानों या उनके परिजनों की खेत में काम करने के दौरान हादसे के चलते विक्‍लांग होने या मृत्‍यु होने की दशा में पांच लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा. पहली बार इस योजना में उन बटाईदारों को भी शामिल किया गया है, जो दूसरे के खेतों में काम करते हैं और उपज में उन्‍हें एक हिस्‍सा मिलता है.

इस योजना में किसान और उसके परिवार के 18 से 70 वर्ष की आयु के सदस्‍य शामिल होंगे और इसे पिछले वर्ष 14 सितम्‍बर से लागू किया जाएगा.

लेटेस्ट कर्रेंट अफेयर्स 〉

लखनऊ और नोएडा में पुलिस आयुक्‍त व्‍यवस्‍था लागू किया गया, सुजीत पांडे लखनऊ और आलोक सिंह नोएडा के प्रथम पुलिस कमिश्नर

उत्‍तरप्रदेश मंत्रिमंडल ने लखनऊ और नोएडा में पुलिस आयुक्‍त व्‍यवस्‍था शुरू करने का फैसला किया है. यह व्‍यवस्‍था 13 जनवरी से लागू हो गई है. इस व्‍यवस्‍था को लागू करने का उद्देश्य लखनऊ और नोएडा को स्‍मार्ट और सुरक्षित शहर के रूप में विकसित करना है. मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने इस फैसले से राज्‍य में कानून-व्‍यवस्‍था की स्‍थिति के बेहतर होने की बात कही है.

यह व्‍यवस्‍था लागू होने से जिला मजिस्‍ट्रेट को केवल राजस्‍व संबंधी काम देखने होंगे और कानून-व्‍यवस्‍था से जुड़े सभी फैसले पुलिस आयुक्‍त लेंगे. लखनऊ की तरह नोएडा में भी अपर पुलिस महानिदेशक (ADG) स्‍तर का एक अधिकारी पुलिस आयुक्‍त होगा और उनके सहयोग के लिए पुलिस उप महानिरीक्षक (DIG) रैंक के दो अपर पुलिस आयुक्‍त रहेंगे.

महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए दोनों शहरों में पुलिस अधीक्षक स्तर की महिला पुलिस अधिकारी की भी तैनाती की जाएगी.

सुजीत पांडे को लखनऊ और आलोक सिंह को नोएडा का पहला पुलिस कमिश्नर नियुक्त किया गया

प्रयागराज जॉन के अपर पुलिस महानिदेशक सुजीत पांडे को लखनऊ का पहला पुलिस कमिश्नर नियुक्त किया गया है. इसी प्रकार मेरठ जोन के अपर पुलिस महानिदेशक आलोक सिंह को नोएडा (गौतम बुध नगर) का पहला पुलिस कमिश्नर बनाया गया है.

लेटेस्ट कर्रेंट अफेयर्स 〉

उत्‍तर प्रदेश में अयोध्‍या दीपोत्‍सव 2019 का समारोह का अयोध्या में शुभारंभ

उत्‍तर प्रदेश में अयोध्‍या दीपोत्‍सव 2019 का समारोह 26 अक्टूबर को अयोध्या में शुरू हुआ. राज्‍य सरकार ने इस बार के अयोध्‍या दीपोत्‍सव को राज्‍य उत्‍सव का दर्जा दिया है. फिजी गणराज्‍य की संसद की उपाध्‍यक्ष और सहायक मंत्री वीना कुमार भटनागर इस आयोजन की मुख्‍य अतिथि हैं.

गिनेस बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड्स
इस अद्भुत दीपावली पर सरयू घाट पर 5 लाख 51 हजार दिए जलाए गये. गिनेस बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड्स की टीम ने अयोध्या पर रेकॉर्ड दियों के जलाए जाने घोषणा की.

उत्‍तर प्रदेश में आपात सेवा नंबर 100 को बदलकर 112 किया गया

उत्‍तर प्रदेश में 26 अक्टूबर से आपात सेवा नंबर 100 को बदलकर 112 कर दिया गया. मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने लखनऊ में इस नये नंबर की सेवा की शुरूआत की. हेल्‍पलाइन नंबर 112, पुलिस, अग्निशमन, महिला सहायता और एम्‍बुलेंस सेवाओं के लिए उपलब्‍ध होगा.

ग्रेटर नोएडा में देश के पहले केंद्रीय पुलिस विश्वविद्यालय की स्थापना को सैद्धांतिक मंजूरी दी गयी

केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में देश के पहले केंद्रीय पुलिस विश्वविद्यालय (Central Police University) की स्थापना की सैद्धांतिक मंजूरी दी है.

केंद्रीय पुलिस विश्वविद्यालय देश के पुलिस कर्मियों के प्रशिक्षण, कौशल, अनुसंधान और नीति निर्धारण में सुधार करने में मदद करेगा.


उत्तर प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री और मंत्रियों के इनकम टैक्स सरकारी खजाने से भरने की व्यवस्था को खत्म किया

उत्तर प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री और मंत्रियों के इनकम टैक्स सरकारी खजाने से भरने की व्यवस्था को खत्म कर दिया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इससे संबंधित आदेश 13 सितम्बर को जारी किया. नई व्यवस्था के तहत भविष्य में किसी भी कैबिनेट मंत्री या मुख्यमंत्री का आयकर रिटर्न अपने खर्चे से भरा जायेगा. अब तक सरकार मंत्रियों का सरकारी खजाने से आयकर रिटर्न दाखिल किया करती थी.

मुख्यमंत्रियों के इनकम टैक्स को अदा करने का यह बिल मुख्यमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह के कार्यकाल में पास हुआ था. उत्तर प्रदेश के मंत्रियों के वेतन, भत्ते और विविध अधिनियम-1981 के तहत एक कानून लागू किया गया था. तब से लेकर अब तक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव, मायावती, कल्याण सिंह, राम प्रकाश गुप्ता, राजनाथ सिंह, श्रीपति मिश्र, वीर बहादुर सिंह और नारायण दत्त तिवारी सहित 19 मुख्यमंत्रियों ने इस कानून का लाभ उठाया.


उत्‍तरप्रदेश के मुख्‍यमंत्री ने अपने मंत्रिमण्‍डल का विस्‍तार किया


उत्‍तरप्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने 21 अगस्त को अपने मंत्रिमण्‍डल का विस्‍तार किया. वर्ष 2017 में सत्‍ता में आने के बाद आदित्‍यनाथ के मंत्रिमंउल का यह पहला विस्‍तार था. मंत्रिमण्‍डल विस्‍तार के बीद अब योगी मंत्रिमंडल की संख्‍या बढ़कर 56 हो गई है.

इस मंत्रिमण्‍डल विस्‍तार में राज्‍यपाल आनंदी बेन पटेल ने राजभवन में 23 नये मंत्रियों को शपथ दिलाई. इनमें से 6 को कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ दिलाई गईं. जिन नये मंत्रियों को शपथ दिलाई गई उनमें दो महिलाएं शामिल हैं. चार मंत्रियों की कैबिनेट मंत्रियों के रूप में प्रोन्‍नति हुई. जिनको प्रोन्‍नत किया गया है वे हैं – डॉ. महेन्‍द्र सिंह, भूपेन सिंह चौधरी, सुरेश राणा और अनिल राजभर.